मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निधि-ईआईआर (नेशनल इनीशिएटिव फाॅर डेवेलपिंग एण्ड हार्नेसिंग इनोवेशन्स-एण्ट्रप्रिन्योर इन रेजीडेन्स) योजना का शुभारम्भ करते हुए योजनान्तर्गत 11 लाभार्थियांे को चेक प्रदान किया। योजना के तहत प्रदेश के अग्रणी इंजीनियरिंग काॅलेजों के ऐसे 11 छात्रों को चुना गया है, जिनके आइडिया बहुत अनोखे हैं। इस अवसर पर खाद्य एवं रसद राज्य मंत्री तथा टीबीआई-काईट के अध्यक्ष अतुल गर्ग भी उपस्थित थे।
ज्ञातव्य है कि निधि-ईआईआर (नेशनल इनीशिएटिव फाॅर डेवेलपिंग एण्ड हार्नेसिंग इनोवेशन्स-एण्ट्रप्रिन्योर इन रेजीडेन्स) के तहत इन युवकों को अगले एक वर्ष तक 20 हजार रुपये से लेकर 30 हजार रुपये प्रतिमाह तक फेलोशिप प्रदान की जाएगी। इसके बाद इनके अर्हता के अनुसार सीड सपोर्ट मनी (कोलैट्रल फ्री ऋण) भी प्रदान की जा सकती है, जिससे वे अपना स्टार्टअप सफलतापूर्वक संचालित कर स्वयं को आर्थिक रूप सुदृढ़ करने के साथ ही, देश के आर्थिक विकास को भी गति प्रदान कर सकें।
छात्रों को प्रोजेक्टों में गो ग्लास-जिसके माध्यम से रेल एवं सड़क पर ड्राइवरों को नींद आने से होने वाली दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है, इनर्जी इफीशिएण्ट इकोनाॅमिकल मोटर बाइक, सेंसर बेस्ड स्मार्ट वेस्ट मैनेजमेंट सिस्ट, प्रदूषण रोकने के लिए हाइब्रेड इलेक्ट्रिकल बाईसाइकिल, सोलर पावर प्लाण्ट में आने वाली खराबियों की आईओटी तकनीक आधारित माॅनीटरिंग व्यवस्था, बिना पानी के सोलर पैनल्स की आॅटोमेटेड सफाई व्यवस्था, आर्टिफिशियल इन्टेलीजेंस का प्रयोग करते हुए संरक्षा एवं सुरक्षा तथा चेहरे की पहचान एवं ग्राहकों को उनकी खरीदी गयी वस्तुओं का लाभ दिलवाने के लिए साॅफ्टवेयर एवं हार्डवेयर का निर्माण शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here