गुरुग्राम, 21 जुलाई, 2017: अक्षय ऊर्जा विभाग द्वारा जिला गुरुग्राम में 15 अगस्त तक 3 मेगावाट का सोलर पावर प्लांट लगाए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है जिसे लेकर आज गुरुग्राम के उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने संबंधित विभागों की बैठक की व उन्हें आवश्यक दिशा-निर्देश दिए।

बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त विनय प्रताप सिंह ने कहा कि गुरुग्राम में अक्षय ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए और लोगों का रूझान इस तरफ बढ़ाने के उद्देश्य से जरूरी है कि लोगों को इसके फायदों के बारे में अवगत करवाया जाए। उन्होंने कहा कि इस मुहिम को सफल बनाने के लिए जरूरी है कि सभी लाइन डिर्पाटमेंट एक-दूसरे से तालमेल स्थापित करें और मिलकर इस लक्ष्य को पूरा करने में जिला प्रशासन का सहयोग करें। उन्होंने कहा कि गुरुग्राम में शिक्षण संस्थानों की भरमार है, इसलिए सोलर पावर प्लांट लगवाने के लिए सबसे पहले शिक्षण संस्थानों पर फोकस किया जाना आवश्यक है। उन्होंने बैठक में उपस्थित अधिकारियों से कहा कि वे ऐसे शिक्षण संस्थानों की पहचान करने में जिला प्रशासन की मदद करें जिनमें सोलर पावर प्लांट नही लगे हुए है। इसके बाद उन सभी शिक्षण संस्थानों से संपर्क करके वहां सोलर पावर प्लांट लगवाने में सहयोग करें और जो संस्थान इस काम को पूरा करने में अड़चन पैदा करें, उनके खिलाफ नियमानुसार कार्यवाही भी सुनिश्चित करें।

उपायुक्त ने कहा कि सरकारी होटल, बिल्डिंगो, गोदामों तथा 500 वर्ग गज या इससे अधिक आकार के भूखंड पर निर्मित सभी आवासीय भवनो में कम से कम एक किलोवाट क्षमता का सोलर पॉवर प्लांट लगाना अनिवार्य किया गया है। उन्होने बैठक में उपस्थित दक्षिण हरियाणा बिजली वितरण निगम के अधिकारियों से कहा कि इस कार्य में उनकी भूमिका सबसे अधिक महत्वपूर्ण रहेगी। उन्होंने उद्योग विभाग, जिला एंव नगर योजनाकार विभाग तथा हरियाणा शहरी विकास प्राधिकरण के अधिकारियों से कहा कि वे अपने अनुभवों का इस्तेमाल करें और लोगों में सोलर पावर प्लांट लगवाने के लिए जागरूकता फैलाएं। इस कार्य को पूरा करने के लिए प्लानिंग और मैनेजमेंट से काम करना जरूरी है । उन्होंने कहा कि इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए आरडब्ल्यूए संस्थाओं का भी सहयोग लिया जा सकता है।

बैठक में उपायुक्त ने उपस्थित विभिन्न विभागों से आए प्रतिनिधियों का फीडबैक भी लिया। बैठक में आए अधिकारियों ने उपायुक्त को सोलर पावर प्लंाट लगाने तथा नेट मीटरिंग लगवाने संबंधी महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में अवगत करवाया और अपने सुझाव उपायुक्त के समक्ष रखे। उपायुक्त ने उन्हें आश्वसत किया कि अच्छे सुझावों को भविष्य में जरूर अमल में लाया जाएगा ताकि इस योजना को और अधिक प्रभावी ढंग से लागू किया जा सके।

इस अवसर पर अतिरिक्त उपायुक्त प्रदीप दहिया ने कहा कि यदि किसी अधिकारी को काम के  दौरान परेशान आती है तो वे सीधे उनसे संपर्क  कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन द्वारा इस लक्ष्य को पूरा करने के लिए जो भी संभव मदद होगी वह अधिकारियों को अवश्य दी जाएगी। उन्होंने अधिकारियों का पूरी मेहनत व लग्र के साथ काम करने के लिए आह्वान किया। बैठक में परियोजना अधिकारी रामेश्वर सिंह ने विभागीय गतिविधियों व योजना के बारे में विस्तार से जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि सौर ऊर्जा का प्रयोग बिजली उत्पादन में अत्यधिक लाभकारी है। सौर ऊर्जा पर्यावरण संरक्षण में भी लाभदायक है। सरकार  द्वारा घरों, शिक्षण संस्थाओं, सामाजिक संस्थाओं द्वारा सोलर पावर प्लान्ट लगाने पर 30 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है। वर्तमान में जिला गुरुग्राम में लगभग 2 मेगावाट के 150 से ज्यादा सोलर पावर प्लांट सब्सिडी के  अन्तर्गत स्वीकृत किये जा चुके हैं। उन्होंने गुरुग्राम वासियों से ज्यादा से ज्यादा सोलर पावर प्लांट लगवाने के आह्वान किया । इच्छुक व्यक्ति अतिरिक्त उपायुक्त कार्यालय विकास सदन में किसी भी कार्यदिवस में सोलर पावर प्लांट लगाने हेतु हर प्रकार की जानकारी, सब्सिडी की स्वीकृति एवम नेट मीटरिंग के लिए सम्पर्क कर सकता है। विभाग की वेबसाइट पर भी सम्पूर्ण जानकारी व ऑनलाइन आवेदन की सुविधा उपलब्ध है। फ़ोन नम्बर 9416100166 या 0124 -2339658 पर भी संपर्क किया जा सकता हैI

-Sandeep Siddhartha, Senior Reporter, delhiNCRnews.in bureau

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here