इलाहाबाद, वृहस्पतिवार, 4 मई 2017: मण्डलायुक्त डॉ0 आशीष कुमार गोयल की अध्यक्षता में मेला प्राधिकरण के गठन की पहली बैठक गांधी सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक में जिलाधिकारी संजय कुमार सहित सभी कार्यदायी विभागों से विचार-विमर्श किया गया।

मण्डलायुक्त ने कहा कि प्राधिकरण का गठन नो प्राफिट-नो लॉस के तर्ज पर होगा। उन्होंने कहा कि इस प्राधिकरण द्वारा मेला क्षेत्र में श्रद्धालुओं के लिए अस्थायी निर्माण कराया जायेगा जिसके तहत अस्थायी शेड, पार्किंग व्यवस्था, शौचालय, चेंजिंग रूम, स्ट्रीट लाइट इत्यादि का निर्माण होगा। इसके अतिरिक्त श्रद्धालुओं के सुरक्षा के दृष्टिगत सुरक्षाकर्मी भी तैनात होंगे।

जिलाधिकारी ने कहा कि प्राधिकरण के माध्यम से संगम क्षेत्र में सभी वस्तुओं का मूल्य निर्धारित किया जायेगा ताकि किसी श्रद्धालु के साथ कोई व्यक्ति बेइमानी या ठगी न कर सके। उन्होंने कहा कि इस प्राधिकरण में अधिकारियों, कर्मचारियों तथा अभियन्ताओं की परमानेंट नियुक्ति होगी तथा कमिश्नर और जिलाधिकारी पदेन पदाधिकारी होंगे। डीएम ने कहा कि मेला प्राधिकरण सिर्फ मेला क्षेत्र में ही कार्य करेगा। इस प्राधिकरण में मेला के कार्यदायी विभागों के प्रतिनिधि शामिल होंगे।

मण्डलायुक्त ने कहा कि मेला प्राधिकरण के गठन ने आय का स्रोत भी बढ़ेगा जिससे मेला क्षेत्र को और अधिक विकसित किया जायेगा। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के सुविधाओं के दृष्टिगत परेड से लेकर बंधा तक अस्थायी दुकानों का निर्माण किया जायेगा।

प्राधिकरण के माध्यम से मेला क्षेत्र की व्यवस्था बढ़िया होगी तथा कोई व्यक्ति मेला के जमीन पर अतिक्रमण भी नहीं कर पायेगा। कमिश्नर ने जिलाधिकारी संजय कुमार को प्राधिकरण का संक्षिप्त परिचय, व्यवस्थायें, कार्यक्रम, बजट, स्टाफ आदि पर प्रस्ताव प्रस्तुत करने का निर्देश दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here